नैनीताल: देश के खूबसूरत पर्यटन स्थल पर हो रहा भूस्खलन चौतरफा संकट का संकेत ? जानिए क्या होंगे भविष्य में परिणाम

भूगर्भीय दृष्टि से संवेदनशील सरोवर नगरी में बलियानाला, चाइनापीक, मालरोड, कैलाखान, टिफिनटॉप क्षेत्रों में हो रहा भूस्खलन और भूधंसाव चौतरफा संकट का संकेत दे रहा है। भूवैज्ञानिक भी इसे शहर के अस्तित्व के लिए शुभसंकेत नहीं मान रहे। शहर के बीचोबीच से गुजरने वाले फॉल्ट का एक्टिव होना इसका कारण माना जा रहा है। जिसके परिणाम भविष्य में और भी भयावह हो सकते है।

माना जाता है कि 1867 में शहर में पहली भूस्खलन की घटना हुई थी। 18 सितंबर 1880 के भूस्खलन ने तो 151 जिंदगी लील ली साथ ही कई भवन जमीदोज हो गए। शहर के नीचे स्थित बलियानले में 150 से भी अधिक वर्षों से भूस्खलन आज भी जारी है। बीते वर्ष शहर की सबसे ऊंची चोटी चाइनापीक में एक बार फिर भारी भूस्खलन हुआ था। साथ ही पहाड़ी के एक बड़े हिस्से में करीब छह इंच चौड़ी दरार उभर आई। Read More

Leave a Comment